Latest News

अमेरिकी चुनाव और मुसलमान: एक सोची समझी रणनीति

आदित्य कुमार गिरि डॉनल्ड ट्रम्प की मुस्लिम विरोधी रणनीति से भारत में भी कुछ लोग खुश हैं। यकीनन वे...

बहादुर पटेल की कविताएं

 (1) अनगिन तुम ना एक ऐसा फूल हो जिसमें कई फूलों का रंग कई की गंध समेटे हो कभी सूरज...

सोलह श्रृंगार

ब्रह्माकुमार राम लखन विभिन्न श्रंगार और अलौकिक ड्रेसेज़ से परमपिता ने हम ब्राह्मण कुल भूषण आत्माओं को सजाया है।...

रोहित की आत्महत्या से उठे सवाल

जगदीश्‍वर चतुर्वेदी हैदराबाद विश्वविद्यालय के छात्र रोहित की आत्महत्या असामान्य – बर्बर घटना है। विश्वविद्यालय प्रशासन ने सामान्य स्थानीय...

“देश ने लाल खोया है”

आदित्य कुमार गिरि पढ़े लिखे लोग ज्यादा निर्मम होते हैं,ज्यादा वस्तुनिष्ठ होते हैं,वस्तुस्थिति को ज्यादा तटस्थ होकर देखने वाले...

तहरीक-ए-तालिबान का बाचा खान यूनिवर्सिटी, पेशावर पर हमला

पाकिस्‍तान में आतंकवादियों ने एक बार फिर अपने नापाक इरादों को अंजाम दे दिया है। आतंकियों ने पेशावर में...

किसानों की आर्थिक बदहाली और फलस्वरूप ‘आत्महत्या’

सारदा बैनर्जी देश में किसानों की आर्थिक बदहाली और उसके परिणामस्वरूप उनकी आत्महत्या की घटनाएं पिछले दो दशकों से...

संसार को कल्याणमय क्रीडांगन बनाइये

ब्रह्माकुमार राम लखन विश्व परिवार की भावना और विश्व कल्याण की कामना ही सच्ची-सच्ची राष्ट्रीयता है। जिस तरह अनेकों...

दूरदर्शन के विज्ञापनों का बदलता स्वरुप

रंजना दुबे अपितु साहित्य समाज का दर्पण है, परन्तु मौजूदा समय में विज्ञापन समाज का दर्पण बन रहा है|...