पहली बारिश में ही हिल गई सपनों के शहर की बुनियाद

भारी बारिश से परेशान मुंबई महानगर में जिंदगी धीरे धीरे पटरी पर लौटने तो लगी है पर हालात अभी भी विकट बने हुए हैं। एक दिन की बारिश में ही जिंदगी की रफ्तार थम सी गई थी औऱ इसने एक बार फिर बीएमसी की लापरवाही की पोल खोल कर रख दी। वैसे बारिश रुकने के बाद हालात सुधऱने लगे हैं औऱ तीनों उपनगरीय ट्रेन सेवाएं बहाल कर दी गई है। हालांकि मौसम विभाग की मानें तो अगले 48 घंटे मुबंई पर भारी पड़ने वाले हैं। शनिवार को भी बारिश की संभावना जताई गई है।

वैसे मुंबई की ये परेशानी को नई नहीं है। हल्की बारिश में ही जल जमाव हो जाना औऱ यातायात का ठप हो जाना कोई नई बात नहीं है। पर 32 हजार करोड़ रुपये के भारी भरकम बजट वाली मुंबई नगरपालिका ने बारिश से निपटने के लिए क्या इंतजाम किए है उसकी कलई मौसम की पहली बारिश में ही खुल गई। एक तरफ सरकार देश में स्मार्ट सिटी बनाने की बात कर रही है पर देश की आर्थिक राजधानी मुंबई की हालत ने कई तरह के सवाल खड़े कर दिए हैं। अब ये सवाल भी उठने लगे हैं कि नये स्मार्ट सिटी बसाने के बदले सरकार को पहले पुराने शहरों को ही तरीके से बसाने पर ध्यान नहीं देने चाहिए। मुंबई सपनों की नगरी है पर भारी बारिश ने सपनों के शहर की बुनियाद ही हिला कर दी है.

Top Story, पर्यावरण, राजनीति, राज्य, शासन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *