मोदी यात्रा की पूर्व संध्या पर नक्सलियों ने लगभग 250 ग्रामीणों को अगवा किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शनिवार को हुए छत्तीसगढ़ दौरे से पहले सुकमा जिले के टोंगपाल थाने के तहत आने वाले मरेंगा और आसपास के गांवों के करीब 250 लोगों को नक्सलियों ने अगवा कर लिया। गांवों में सन्नाटा पसरा हुआ है। कुछ बुजुर्गों व बच्चों को छोड़कर कोई दिखाई नहीं दे रहा है। मरेंगा गांव दंतेवाड़ा से करीब 70 किलोमीटर दूर है।

 

मुख्यमंत्री रमन सिंह ने भी इसकी पुष्टि करते हुए कहा है कि सुकमा जिले में कुछ गांवों से नक्सलियों ने 200 से 250 ग्रामीणों को अगवा कर लिया है और स्थानीय प्रशासन उनकी रिहाई के लिए कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा, ‘कोई भ्रम नहीं है..स्थानीय प्रशासन उनकी रिहाई के लिए कोशिश कर रहा है।’

 

माना जा रहा है कि माओवादियों ने गांव वालों को पीएम की रैली में जाने से रोकने के लिए ऐसा किया है। कुछ लोगों का यह भी कहना है कि माओवादी ऐसा करते हैं लेकिन गांववालों को नुकसान नहीं पहुंचाया जाता है। सुकमा जिले के एएसपी हरीश राठौड़ का कहना है कि 300 से ज्यादा लोगों को माओवादियों ने अगवा किया है। इन सभी लोगों को अगवा कर मारेंगा गांव ले जाया गया है। माओवादी मारेंगा गांव के पास पुल बनाए जाने से नाराज थे। इसके विरोध में माओवादियों ने यह कार्रवाई की है।

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में की जा रही सामाजिक-आर्थिक विकास पहलों का जायजा लेने आज वहां जायेंगे। दिलचस्प बात ये थी कि करीब 30 साल बाद देश का कोई प्रधानमंत्री दंतेवाड़ा के दौरे पहुंचा है. छत्तीसगढ़ दौरे पर आए पीएम मोदी ने नक्सलियों को संदेश देते हुए कहा कि बंदूक के बल पर किसी भी समस्या का समाधान नहीं हो सकता। कंधे से बंदूक नीचे रखिए और वापस आइए। उन्होंने कहा कि गरीब की झोंपड़ी तक विकास पहुंचना चाहिए.

Top Story, पर्यावरण, राजनीति, राज्य, विकास, शासन, शिक्षा, संस्कृति, सामाजिक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *