75 रुपये का मुआवजा किसानों को दे रही उत्तर प्रदेश सरकार

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ और उसके आसपास के कई जिलों में बेमौसम बारिश से फसलें बर्बाद हो गई हैं। मौसम की इस मार से किसान पहले ही परेशान हैं और अब राज्य सरकार भी उनके जख्मों पर मरहम लगाने के बजाय राहत के नाम पर 75 रुपये व 100 रुपये का चेक जारी कर उनके साथ मजाक कर रही है।

 

फैजाबाद जिले में किसानों को मुआवजे के नाम पर 75 रुपये, 100 रुपये या 150 रुपये के चेक जारी हुए हैं। वहीं, कुछ ऐसे किसानों के नाम चेक जारी हुए हैं, जिनकी मौत हो चुकी है। इसके अलावा कब्रिस्तान की जमीन पर भी खेती दिखाकर चेक जारी कर दिए गए हैं।

 

फैजाबाद के वाजिदपुर गांव में किसानों के साथ हुए इस खिलवाड़ पर अधिकारी भी अपनी गलती मान रहे हैं। उप जिलाधिाकरी अशोक कुमार सिंह का कहना है कि फसलों के नुकसान के सर्वे के लिए लेखपालों की टीम लगाई गई थी। हो सकता है कि सर्वे में कहीं चूक हो गई हो। उन्होंने कहा कि हमारे पास लेखपालों की हस्ताक्षर की हुई रिपोर्ट है। कब्रिस्तान की जमीन को खेती योग्य जमीन दिखाकर दिए गए चेकों की जांच कराई जाएगी।

 

इधर, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने फैजाबाद के वाजिदपुर गांव का दौरा कर मामले की पूरी जानकरी ली और दोषी अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किए जाने की मांग की। वाजपेयी ने कहा, ”गांव में नायब तहसीलदार या लेखपाल कोई नहीं आया। नियम के अनुसार, मुआवजे के नाम पर कम से कम 750 रुपये मिलने चाहिए। गांव में प्रधान का कब्रिस्तान है, जिसमें खेती नहीं होती। इस जमीन पर भी आठ लोगों का चेक बना दिया गया है।”

 

वाजपेयी ने बताया कि जिस जमीन पर खेती नहीं होती, उनके मालिकों के नाम पर भी चेक जारी किए गए। इस खेल में शामिल नायब तहसीलदार, पटवारी तहसीलदार, कानूनगो, उप जिलाधिकारी व जिलाधिकारी के खिलाफ  कार्रवाई होनी चाहिए।

 

Top Story, अर्थव्यवस्था, पर्यावरण, राजनीति, राज्य, विकास, शासन, सामाजिक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *