प्लेन क्रैश मामले में चौकानें वाला खुलासा

फ्रांस की दुर्गम जर्मनविंग्स प्लेन क्रैश मामले में एक चौकानें वाला खुलासा हुआ है फ्लाइट 4U9525 के को-पायलट आंद्रे लुबिज को लेकर लगातार नए तथ्य सामने आ रहे हैं. पहले जानकारी कि वह डिप्रेशन का शिकार था और छह साल पहले उसने ट्रेनिंग छोड़कर इलाज कराया था।

 

अब खबर आई है कि जांचकर्ताओं को जर्मन शहर मोन्टाबाउर स्थित उसके घर से कागज का एक टुकड़ा मिला है, जिसमें डॉक्टर ने आंद्रे से साफ शब्दों में कहा था कि काम से कुछ दिन के लिए छुट्टी ले लो। को-पायलट ने जर्मनविंग्स एयरलाइंस से यह बात हमेशा छुपाए रखी। लेकिन,जर्मनविंग्स की मूल कंपनी लुफ्थांसा ने इससे इनकार करते हुए कहा है कि प्लेन का को-पायलट आंद्रे लुबिज 100 फीसदी फिट था.

 

आरोपी पहले इस फ्लैट में वह अपनी गर्लफ्रेंड के साथ रहता था, लेकिन कुछ समय पूर्व उसका ब्रेकअप हो गया था जिससे वह काफी परेशान था. संभवतः इसी डिप्रेशन में उसने एयरबस A320 को क्रैश करा दिया. जिससे इस हादसे में 150 लोगों की मौत हो गयी है. वहीं जर्मन प्रॉसिक्यूटर का कहना है कि उसने अपने ऐंप्लॉयर से अपनी बीमारी छिपाई थी.

विदित हो कि जर्मनविंग्स प्लेन क्रैश प्‍लेन कुछ  पूर्व ऐल्प्स की पहाड़ियों में क्रैश हो गया था. जिससे इसके बाद इस हादसे की जांच शुरू हो गयी.

 

Top Story, अंतर्राष्ट्रीय, पर्यावरण, राजनीति, विचार, शासन, सामाजिक, स्वास्थ्य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *