इरोम शर्मिला – एक आदर्श

आदित्य ओझा लोकतंत्र अन्य शासन प्रणालियों से इसलिए अलग है क्योंकि ये विरोध करने का अधिकार प्रदान करता है।...

भारतीय परिदृश्य में, मीडिया में महिलाओं का चित्रण

राकेश रंजन कुमार आधी दुनिया से संदर्भित सूचना, शिक्षा एवं मनोरंजन की प्रस्तुति महिला पत्रकारिता है जो आबालवृद्ध के...

क्या पत्रकारिता के सिद्धांतों का कोई भविष्य है…..?

राकेश रंजन कुमार पत्रकारिता में एथिक्स को लेकर लंबी बहस रही है। क्योंकि पत्रकारिता औऱ एथिक्स का चोली-दामन का...

एम्स में एससी, एसटी, एंव ओबीसी के साथ भेद-भाव

अर्जुन राम मेघवाल देश  के प्रमुख शिक्षा एवं चिकित्सा संस्थान, एम्स में सामाजिक न्याय के संवैधानिक प्रावधानों का विगत...

Untitled

The views and opinions expressed are those of the authors of the articles.Wisdom Blow is in no way liable...