Home » अर्थव्यवस्था You are browsing entries filed in “अर्थव्यवस्था”

सीबीआई ने यादव सिंह को किया गिरफ्तार

Yadav-Singh

भ्रष्टाचार के मामले में नोएडा के अरबपति चीफ इंजीनियर यादव सिंह को सीबीआई ने गिरफ्तार किया है। यादव सिंह पर करोड़ों रुपये के घोटाले का आरोप है। यादव सिंह पर आय से अधिक संपत्ति जमा करने का मुकदमा दर्ज हुआ था. इस मामले की जांच सीबीआई कर रही है.   कहा जा रहा है कि [...]

February 3rd, 2016 | Posted in Top Story,अर्थव्यवस्था,राजनीति,राज्य,शासन,सामाजिक | Read More »

अमेरिकी चुनाव और मुसलमान: एक सोची समझी रणनीति

DT2

आदित्य कुमार गिरि डॉनल्ड ट्रम्प की मुस्लिम विरोधी रणनीति से भारत में भी कुछ लोग खुश हैं। यकीनन वे लोग मैच्योर तो नहीं हैं। अमेरिका ईसाई मुल्क है। वे ऐसे भी सचेत और कट्टर हैं फिर ट्रम्प यह सब क्यों और किसके लिए कर रहे हैं। आखिर उनकी इस रणनीति का सम्बन्ध किससे है ? [...]

January 31st, 2016 | Posted in Top Story,अंतर्राष्ट्रीय,अर्थव्यवस्था,युवा मंच,राजनीति,विचार,शासन,सामाजिक | Read More »

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

HRD4

January 26th, 2016 | Posted in Top Story,अंतर्राष्ट्रीय,अध्यात्म,अर्थव्यवस्था,खेल-कूद,नारी - सशक्तिकरण,पर्यावरण,पर्सनल फायनेंस,फिल्म,मनोरंजन,युवा मंच,राजनीति,राज्य,विकास,विचार,शासन,शिक्षा,संस्कृति,सामाजिक,साहित्य,स्वास्थ्य | Read More »

किसानों की आर्थिक बदहाली और फलस्वरूप ‘आत्महत्या’

Su

सारदा बैनर्जी देश में किसानों की आर्थिक बदहाली और उसके परिणामस्वरूप उनकी आत्महत्या की घटनाएं पिछले दो दशकों से एक बहुत बड़ी चुनौती के रुप में सामने आया है। यह बेहद परेशान करने वाली घटना है कि देश का प्रमुख उत्पादक वर्ग एवं देश की अन्नदाता शक्ति गरीबी और आर्थिक तनाव का बुरी तरह से [...]

January 20th, 2016 | Posted in Top Story,अर्थव्यवस्था,पर्यावरण,युवा मंच,राजनीति,राज्य,विकास,विचार,शासन,सामाजिक,साहित्य | Read More »

दूरदर्शन के विज्ञापनों का बदलता स्वरुप

DDN

रंजना दुबे अपितु साहित्य समाज का दर्पण है, परन्तु मौजूदा समय में विज्ञापन समाज का दर्पण बन रहा है| मौजूदा भूमंडलीय प्रक्रिया में बाजारवाद के चलते आज विज्ञापन की दुनिया इतनी बहुआयामी और प्रभावी हो गईं है कि वह व्यक्ति के जीवन के हर क्षेत्र को प्रभावित कर रही है | यहाँ तक की व्यक्ति [...]

January 18th, 2016 | Posted in Top Story,अर्थव्यवस्था,नारी - सशक्तिकरण,फिल्म,मनोरंजन,युवा मंच,राजनीति,विचार,शासन,शिक्षा,संस्कृति,सामाजिक,साहित्य | Read More »

सम्पूर्ण भारतीय समाज का दर्पण दिल्ली और मुम्बई

Manohar-Manoj

मनोहर मनोज यह बड़ी आम किवंदती है कि भारत की सारी समृद्घि दिल्ली और मुंबई जैसे शहरों में दिखायी देती है। नयी आर्थिक नीति के बाद तो कई लोगों का यह तथ्य और पुख्ता हुआ कि ज्यादातर विकास चाहे वह रियल इस्टेट के क्षेत्र में हो, बहुराष्ट्रीय क ंपनियों द्वारा किया जाने वाला भारी निवेश [...]

January 13th, 2016 | Posted in Top Story,अंतर्राष्ट्रीय,अर्थव्यवस्था,युवा मंच,राजनीति,विकास,विचार,शासन,शिक्षा,संस्कृति,सामाजिक | Read More »

संविधान पर खुलकर चर्चा होनी चाहिए

Manohar-Manoj

मनोहर मनोज 26 नवम्बर को संबिधान तिथि के बहाने संसद में हुए संविधान पर बहस में किसी ने इसका वस्तुनिष्ठ विश्लेषण नहीं किया ,बल्कि प्रधानमंत्री सहित सभी ने इसका भावनिष्ठ विश्लेषण ही किया। इस अवसर पर संसद में संविधान का कोरस तो गाया गया पर उसके बीच के कई दरारों को भरने का कही से [...]

December 10th, 2015 | Posted in Top Story,अर्थव्यवस्था,पर्यावरण,राजनीति,राज्य,विकास,विचार,शासन,शिक्षा,सामाजिक | Read More »

वंचित वर्ग को आरक्षण से नहीं सशक्तिकरण से फायदा

Manohar-Manoj

मनोहर मनोज वंचित वर्ग की राजनीति के परिसंवाद यानी पालीटिकल डिस्कोर्स में आरक्षण का मुद्दा पुन: तीव्रता से चर्चाएमान है। पिछले 1970 के दशक से लेकर अभी 2010 के दशक तक भी आरक्षण पर होने वाले समर्थन और विरोध के समूचे साहित्य और उनमें प्रयुक्त शाब्दिक टर्मों,दृष्टांतों,उद्धरणों और आख्यानों पर नजर डाली जाए तो इसके [...]

October 31st, 2015 | Posted in Top Story,अर्थव्यवस्था,युवा मंच,राजनीति,राज्य,विकास,विचार,शासन,शिक्षा,सामाजिक | Read More »

राहगीरों को दिन दहाड़े लुटते टोल

tp

प्रवीण कुमार समय बदलता है युग बदलता है समय के साथ अपराध और अपराध करने के तरीके बदलते हैं। कभी घने जगलो में रात के समय राहगिरो को डाकु लुटा करते थे। एक पुरानी कहानी है-अंगुली माल डाकु जंगल में रहता था । उस राह से गुजरने वालो रहागिरो को लुटता था और गिनती के [...]

October 9th, 2015 | Posted in Top Story,अर्थव्यवस्था,पर्यावरण,युवा मंच,राज्य,विकास,शासन | Read More »

कॉल ड्रॉप बनी बड़ी मुसीबत

call

कॉल ड्रॉप एक बड़ी समस्या बनती जा रही है और इसने सरकार को भी कठघरे में खड़ा कर दिया है। विपक्ष लगातार बढ़ते हमलों के बीच मंगलवार को संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद कहा कि कॉल ड्रॉप को लेकर सरकार बहुत गंभीर है औऱ टेलीकॉम ऑपरेटरों की सेवाओं की गुणवत्ता का ऑडिट कराया [...]

July 7th, 2015 | Posted in Top Story,अर्थव्यवस्था,राज्य | Read More »

120x600 ad code [Inner pages]
300x250 ad code [Inner pages]

Recently Commented