बहादुर पटेल की कविताएं

 (1) अनगिन तुम ना एक ऐसा फूल हो जिसमें कई फूलों का रंग कई की गंध समेटे हो कभी सूरज...

दूरदर्शन के विज्ञापनों का बदलता स्वरुप

रंजना दुबे अपितु साहित्य समाज का दर्पण है, परन्तु मौजूदा समय में विज्ञापन समाज का दर्पण बन रहा है|...

तुसाद में “मोमी” हुईं कटरीना

लंदन के मशहूर म्यूजियम मैडम तुसाद में कैटरीना ने मोम की अपनी प्रतिमा का अनावरण किया और वह लोकप्रिय...

क्या संत वैलेंटाइन से कम हैं दशरथ मांझी !

आज दशरथ मांझी बड़ा नाम है बिहार का।  बहुत बड़ा नाम है दशरथ मांझी का मेरी नजरों में।  ना केवल बड़ा...

जब आपकी लॉटरी लग जाए !

p v subramnayam इंसान की किस्मत कब और कहां बदल जाए कोई नहीं जानता। बिहार के एक छोटे से...

मैं तुम्हारा प्रेमी तलाश करता हूँ तुम्हें ……

दिनेश कुमार सिंह मैं तुम्हारा प्रेमी तलाश करता हूँ तुम्हें उन सड़कों पर जहाँ तुम पत्थर तोडा करती थी...