क्या संत वैलेंटाइन से कम हैं दशरथ मांझी !

आज दशरथ मांझी बड़ा नाम है बिहार का।  बहुत बड़ा नाम है दशरथ मांझी का मेरी नजरों में।  ना केवल बड़ा...

आजाद भारत में ऐसा सत्याग्रह पहले कभी न हुआ

ऐसा कुछ नहीं हुआ है कि इरोम शर्मीला को याद किया जाए। दस साल पहले इरोम ने जिस सत्याग्रह...

मैं तुम्हारा प्रेमी तलाश करता हूँ तुम्हें ……

दिनेश कुमार सिंह मैं तुम्हारा प्रेमी तलाश करता हूँ तुम्हें उन सड़कों पर जहाँ तुम पत्थर तोडा करती थी...

काम करें “बेल साहब” और मजा मारें सीएम साहब

नवल किशोर कुमार हाल ही में मदर्स डे के अवसर पर मेरे मन ने मुझे आदेश दिया कि मैं...

इरोम शर्मिला – एक आदर्श

आदित्य ओझा लोकतंत्र अन्य शासन प्रणालियों से इसलिए अलग है क्योंकि ये विरोध करने का अधिकार प्रदान करता है।...

भारतीय परिदृश्य में, मीडिया में महिलाओं का चित्रण

राकेश रंजन कुमार आधी दुनिया से संदर्भित सूचना, शिक्षा एवं मनोरंजन की प्रस्तुति महिला पत्रकारिता है जो आबालवृद्ध के...

एक दिन का सशक्तिकरण

अन्तर्राष्टीय महिला दिवस मुख्य रूप से कामगार महिलाओं के लिए बनाया गया एक विशेष दिन है जिसे प्रत्येक वर्ष...